रक्षा करो

रक्षा करो(वर्ण पिरामिड़)
हे
वीर
लंगूर
हनुमान
पवनपुत्र
केसरी नंदन
रोग फैला है भारी ।
श्री
राम
सेवक
बजरंगी
सुनो पुकार
जग रखवारे
कोरोना महामारी ।
जै
जय
रामेष्ट
वरदानी
शंकर स्वयं
संकट हरण
शरण में तुम्हारी।
हे
नाथ
समर्थ
देना साथ
जोड़ते हाथ
झुकाकर माथ
रक्षा करो हमारी।
(राजेश कुमार कौरव.(सुमित्र)

4 Likes · 5 Comments · 57 Views
उच्च श्रेणी शिक्षक के पद पर कार्यरत,गणित विषय में स्नातकोत्तर, शास उ मा वि बारहा...
You may also like: