.
Skip to content

*रक्षाबंधन*

Prashant Sharma

Prashant Sharma

कविता

August 7, 2017

*रक्षाबंधन*

बहिन का वंदन भाई का चंदन
कलाई में रक्षा का वरदान है।
भाई बहन के प्रेम का बंधन
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

श्रावण में बरसात की फुहारें
करती इस बंधन का गुणगान है।
भाई बहन को आज मिलाता
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

जीवन सारा संग बिताया।
रस्मो से होती अलग पहचान है।
भाई बहन को बचपन देता
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

प्रेम की धागा की ताकत देखो
बन जाता रिश्तो की पहचान है।
भाई बहन का शाश्वत बंधन ये
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

*प्रशांत शर्मा “सरल*”
*नरसिंहपुर*

Author
Prashant Sharma
Recommended Posts
*रक्षाबंधन*
*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श्रावण... Read more
राखी का दिन
रक्षाबंधन का दिन भाई-बहिन के प्यार का दिन आया रक्षाबंधन के त्योहार का दिन आया भाई की कलाई पे बहिन बांधे रखी जिस दिन वो... Read more
कभी इस पार ,कभी....
कभी इस पार कभी उस पार, खिच लेता है एक दूजे को बहन-भाई का प्यार रक्षा बंधन का त्यौहार चलता रहे,निभता रहे अमर प्रेम की... Read more
रक्षाबंधन
????????? अति सुन्दरतम् सावन ऋतु आई । संग में रक्षाबंधन का पर्व है लाई।। ????????? ? बहन बाजार से सुन्दर राखी लाई पूजा की थाली... Read more