.
Skip to content

रक्षाबंधन की शुभकामना

Rajesh Kumar Kaurav

Rajesh Kumar Kaurav

कविता

August 6, 2017

रक्षाबंधन के अवसर पर,
कोटि कोटि शुभकामना ।
विजयी हो मेरा भाई,
हर बहिन करती कामना ।।
न पूजा किसी देवी देव की,
न आरती न किसी की प्रार्थना।
नारी शक्ति मंगल करने,
रखती है शुभ सदभावना ।।
देवासुर संग्राम में हारे,
हत्तोत्साहित हो गये देव सब।
देवी इन्द्राणी ने रक्षासूत्र,
बॉध इन्द्र को कहा जीतोगें अब।।
जीत हुई थी फिर देवों की,
पर जीता देवी का ही संकल्प था।
देवी शक्ति नारी स्वरूप की,
पूजा ही रक्षाबंधन पर्व था ।।
तब से चला पर्व अति पावन,
हम सबने सुना और जाना।
यह पर्व है नारी पूजन हित,
पर धर्म बड़ा इसे निभापाना।।
बहिन बॉधती है राखी,
आशीषों की वर्षा करती है।
भाई पूजता कर वंदन,
जी जान से सहायता करता है।।
राजेश कौरव “सुमित्र”
बारहाबड़ा, नरसिंहपुर

Author
Recommended Posts
देवी
देकर नारी-शक्ति का नारा, ये क्या ढोंग रचाते हैं l देवी से नफ़रत करके, देवी को शीष नवाते हैं l देकर नारी-शक्ति का नारा ..... Read more
नारी शक्ति
.."नारी शक्ति".. ईश्वर ने भी इस नारी का सदा किया सम्मान धन की देवी लक्ष्मी शक्ति दुर्गा की पहचान हर परीवार का अनमोल गहना है... Read more
_=_=_जै हो देवी मैया की_=_=_
Ranjana Mathur गीत Sep 20, 2017
शुभागमन देवी चरणन का, कोटि-कोटि नतमस्तक हैं। शक्ति प्रदायिनी सर्व सुखदायिनी, मांँ सकल सुखों की संवर्धक हैं। मेरी भक्ति पर तेरी कृपा रहे, वरना ये... Read more
*साक्षात् शक्ति का रूप है नारी*
Neelam Ji कविता Jun 22, 2017
कभी माँ तो कभी पत्नी है नारी , कभी बहन तो कभी बेटी है नारी । मत समझना नारी को कमजोर , साक्षात् शक्ति का... Read more