Skip to content

रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं

आनन्द कुमार

आनन्द कुमार

कविता

March 13, 2017

रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं
लपकि-झपकि मोहे अंग लगावैं
मैं उन पर जाऊँ वारी
भरि पिचकारी मोहे मारी
तन भी भीगौ
मन भी भीगौ
अँखियन-अँखियन महिं मोहि लखावैं
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं ।

पिया संग होरी खेलन कौ
यह प्रथमो अवसर मोहि प्राप्ति भयो
तन मेरो रंग-गुलाल से सराबोर भयो
जीवन कौ ऐसो समय
न कबहूँ मोहि दीदार भयो
बैर भुलाय, सवै गले लगावैं
दौड़ि-दौड़ि कै रंग लगावैं
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं ।

वो गली सै सरपट निकलीं
तिरछे नैनों से बात हुई
मोरे पिया की अँखियाँ चार भईं
पुराने रिश्तों की डोर जुड़ी
मोहिं समझन महिं न देर लगी
देखत-देखत महिं ही बुलबुल
गुलों पर निसार भई ।
जब लगा गुलाल गुलाबी गालों पर
मोरे पिया की पिय की
वाँछे खिल गईं
जब पिया को मिला चुम्बन का स्पर्श
मईं तौ शरम सै पानी-पानी हुई गई ।
अँखियन में मईं नीर भरे
फागुन की बदरी हुई गई
बार-बार मोहिं पिया मनावैं
दै चुम्बन मोहिं कंठ लगावैं
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं ।।

– आनन्द कुमार

Author
आनन्द कुमार
आनन्द कुमार पुत्र श्री खुशीराम जन्म-तिथि- 1 जनवरी सन् 1992 ग्राम- अयाँरी (हरदोई) उत्तर प्रदेश शिक्षा- परास्नातक (प्राणि विज्ञान) वर्तमान में विषय-"जीव विज्ञान" के अन्तर्गत अध्यापन कार्य कर रहा हूँ । मुख्यत: कविता, कहानी, लेख इत्यादि विधाओं पर लिखता हूँ... Read more
Recommended Posts
मोहे प्रीत के रंग रंगना
रंग से नही रंगना, सजन मोहे अपने रंग में रंगना ! कच्चे रंग दिखावे के, मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !! ! बारह महीनो... Read more
*** रंग डारो मोरे मन को ***
तन रंगे अब का होवे है रंग डारो मोरे मन को ।। ओ पिया ओ पिया ओ पिया मैं तो हो ली अब साजन की... Read more
हाइकू
हुरियार हायकू.... ?????????? ब्रज की होरी बचै ना कोई कारी, ना कोई गोरी। नन्द कौ लाल भरि-भरि मारत, रंग-गुलाल। आज खेलत ब्रज में फाग हरी,... Read more
फागुन
विषय-फागुन तिथि-९-३-२०१७ सखी ! फागुन मास है आयो री। संग मधुर सरस बरसायो री। समा भयो बड़ा मनभावन री। चहु ओर है सरसों छाय रही।... Read more