रंगोत्सव

रंगोत्सव पर मन के भाव
*******************

प्रेम के ये रंग , भाव प्रेमातुर हृदय के ..
बसे तार तार जो , बिना किसी लय के ……

मन की पिचकारी ,अरे मन ही पै मारी …
अब प्रेम मधु मटकी ,उड़ेल दी है सारी …..

रंग दिया तन मन बिना किसी भय के ….
प्रेम के ये रंग ,भाव प्रेमातुर हृदय के ..

चाहत की कुमकुम , प्रतीक्षित ये भाल ….
सपने मेँ आ आकर, हो मलती गुलाल …

प्रेम वीथि प्रिये कसी. देखो आज कैसे …….
प्रेम के ये रँग भाव , प्रेमातुर हृदय के …
बसे तार तार जो बिना किसी भय के ….

क्रमशः

@अरुण त्रिवेदी अनुपम

अंतस से

Like Comment 0
Views 17

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share