Skip to content

योग (योग दिवस पर)

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

June 21, 2017

?????
नित्य उठ करे प्राणायाम व योग,
शरीर रहेगा सदा स्वस्थ निरोग।
?
योग प्रकृति से जुड़ी सुन्दर विद्या,
बढ़ाता बौद्धिक,शारीरिक क्षमता।
?
योग सर्वोच्च ब्रह्माण्डमय सिद्धांत,
योग से होता हर बिमारी का अंत।
?
चेतना से योग का गहरा जुड़ाव,
योग से दूर होता हर एक तनाव।
?
योग, मुद्रा, प्रणायाम, साधना, ध्यान,
मन आत्मा को अनंत क्षमता प्रदान।
?
योग आत्मबल,बुद्धि,शक्ति बढ़ाता।
मन सुदृढ़ और सुख-संतुष्टि लाता।
?
योग विज्ञान एक प्रमाणित तथ्य,
अपना लो मानव जीवन में नित्य।
?
योग में है सब रोगों का उपचार,
दिनचर्या में अपनाओ लगातार।
?
नित्य नियम से सुबह और शाम,
योग करो छोड़कर के सभी काम।
?
योग मिटाता माँसपेशियों की थकान,
दे तन-मन में ताजगी चेहरे पे मुस्कान।
?
योग जीवन का लाभदायक पूँजी,
रोग मुक्ति की एक सफल कुंजी।
?
योग रखेगा तुम्हें डाॅक्टर से दूर,
बढे चेहरे की चमक व उम्र भरपूर।
?
योग एक बहुत ही बढ़िया इलाज,
इसमें छुपा स्वस्थ जीवन का राज।
?
स्वास्थ्य बिना जीवन में सब शून्य,
योग करने में नहीं लगता कोई मूल्य।
?
योग का होता एक पवित्र प्रभाव,
योग से तुम सदैव रखना लगाव।
?
यदि है सुखमय जीवन की चाहत,
तो डाल लो नित्य योग की आदत।
?
योग बहुत है फायदेमंद,
बिना खर्चा पाये आनंद।
????–लक्ष्मी सिंह?☺

Share this:
Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended for you