31.5k Members 51.9k Posts

ये संसार भी बेटियों से चला है

ये संसार भी बेटियों से चला है
अगर पास बेटी तो ये इक दुआ है

पराई क्यों बेटी को कहते हो लोगों
हमें प्यार सच्चा उन्हीं से मिला है

अगर कोख में मार डाली है बेटी
कोई पाप इससे न जग में बड़ा है

इधर कन्या पूजन उधर उनसे नफरत
ये कितना बड़ा सोच में फासला है

बड़ा सुख है औलाद का,बाँट इसको
यहाँ बेटियों बेटों में क्यों दिया है

नियम हम खुदा के अगर तोड़ते हैं
तो मिलती भी इसकी यहाँ पर सज़ा है

नहीं बेटियां गर सुरक्षित यहाँ पर
तो इसमें हमारी ही देखो खता है

न संस्कार अच्छे दे बच्चों को पाये
तभी मूल्यों का स्तर भी इतना गिरा है

नज़र ही नही अब नज़रिया भी बदलो
नहीं बोझ बेटी ये बस ‘अर्चना’ है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र )

69 Views
Dr Archana Gupta
Dr Archana Gupta
मुरादाबाद
941 Posts · 96.7k Views
डॉ अर्चना गुप्ता (Founder,Sahityapedia) "मेरी प्यारी लेखनी, मेरे दिल का साज इसकी मेरे बाद भी,...
You may also like: