ये मिलन की धुन बजाता कौन है ? (गीतिका)

*
ये मिलन की धुन बजाता कौन है ?
आस फिर दिल में जगाता कौन है ?
*
क्यों अचानक बढ़ गयीं हैं धड़कने,
तार उर के झनझनाता कौन है ?
*
जागने दो रात भर सोने न दो ,
नींद के अब पास जाता कौन है ?
*
लग रहा है फिर सजेंगी महफिलें,
राग ‘काफी’ गुनगुनाता कौन है ?
*
छिड गयी है तान तो कुछ झूम लें,
हर घड़ी हमको लुभाता कौन है ?
*
हो न जाए बन्द मधुशाला कहीं,
बाद में घर आ पिलाता कौन है ?
*
लग रहा है डर कदाचित इसलिए,
दूर जाकर पास आता कौन है ।

**********************************
हरीश चन्द्र लोहुमी
**********************************

Like Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share