.
Skip to content

ये जीवन भी क्या हैं?

Neeraj Chauhan

Neeraj Chauhan

मुक्तक

July 21, 2016

ये जीवन भी क्या हैं, कभी उत्थान तो कभी पतन,
कभी गूँज भरी किलकारियाँ, कभी मौत का निमंत्रण
कही लुटता हुआ धन हैं, कही घुटता हुआ मन,
कही हंसने पर पैसा हैं, कही रोना आजीवन !

– नीरज चौहान

Author
Neeraj Chauhan
कॉर्पोरेट और हिंदी की जगज़ाहिर लड़ाई में एक छुपा हुआ लेखक हूँ। माँ हिंदी के प्रति मेरी गहरी निष्ठा हैं। जिसे आजीवन मैं निभाना चाहता हूँ।
Recommended Posts
क्या यही जीवन है
कभी-कभी सोचता हूँ, जीवन क्या है ? भोर हुआ पतझड़ आया सब भगे जा रहे हैं, रुकने का नाम कोई नहीं ले रहा, क्या यूँ... Read more
नजर नजर मे कही प्यार हो न जाये
नजर नजर मे कही प्यार हो जाये| तू पास आजा सवम एेसे क्यो सताये|| तेरी सूरत तेरे दिल मे क्या खुमार है| तेरी आँखो मे... Read more
कभी लेखनी कहती है ।
कभी कभी कागज कहता है , कभी लेखनी खुद कहती है आज तुम्हें कुछ लिखना हैं । नही आ रहा तो सिखना है । कभी... Read more
कभी-कभी
कभी-कभी ढोना पड़ती है पृथ्वी अपने ही कंधों पर । अपने लिए नहीं, समाज की रक्षा के लिए । कभी-कभी बाँधना पड़ता है आकाश को... Read more