.
Skip to content

ये गन्दी राजनीति

ज़ैद बलियावी

ज़ैद बलियावी

कविता

March 24, 2017

ये झूटे वादे रहने दो,
ये झूटी वर्दी रहने दो,,
हम आंसू पीकर भी चैन से जीते,
तुम अपनी हमदर्दी रहने दो,,
बड़ी फैलाई नफरत तुमने,
जात-धर्म के नाम पर,
अब ऐसा करो साहब मुझको तुम,
छोड़ो मेरे हाल पर,,
झाककर देख खुद मे ज़रा,
तेरा ज़मीर तो मुर्दा,,
भारत माता भी तुझपर,
कितना ज़्यादा शर्मिंदा है,,
अब न करो ऐसी सियासत,
जात-धर्म के नाम पर,
अब ऐसा साहब मुझको तुम,
छोड़ो मेरे हाल पर,,
जात-धर्म के नाम पर,
कैसी हमदर्दी दिखलाई है,,
हर जगह पहुँच कर तुमने तो,
बस नफरत ही फैलाई है,,
हम एक साथ रह न सके,
कैसी हमसे ये तिजारत है,
नफरत मे डूबा है मुल्क मेरा,
अल्लाह ये कैसी सियासत है,
बहुत हुई अब तेरी हमदर्दी,
जात-धर्म के नाम पर,
अब ऐसा करो साहब मुझको तुम,
छोड़ो मेरे हाल पर,,,

((((ज़ैद बलियावी)))

Author
ज़ैद बलियावी
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.
Recommended Posts
जामे-मयखाना ओ बोतल को पड़ा रहने दो
ग़ज़ल ******* नाम इस दिल पे तुम्हारा ही लिखा रहने दो प्यार का दीप जला है तो जला रहने दो ??? और जीने की दुआ... Read more
***भारत देश के वासी हो तुम**इस मिट्टी पर अभिमान करो**
*भारत माँ के लाल हो तुम इस माता का सम्मान करो तीन रंग का मान करो अपमान ना इसका आज करो *जिस जन्म भूमि पर... Read more
हमने मुहब्बत और इबादत में फर्क नहीं रखा
रात की नमाज तुम सुबह की अजान हो तुम हमने मुहब्बत और इबादत में फर्क नहीं रखा लोग कहते है बर्बादियों का शबब हो तुम... Read more
ए ज़िंदगी बड़ी अजीब हो तुम
ए ज़िंदगी बड़ी अजीब हो तुम अमीर तो कहीं ग़रीब हो तुम कोई नाम दो अब रिश्ते को न यार मिरे ना रक़ीब हो तुम... Read more