Skip to content

ये कोई तरीका है ….

डॉ. अनिता जैन

डॉ. अनिता जैन "विपुला"

कविता

September 21, 2016

ये कोई तरीका है …
◆◆◆◆◆◆◆◆◆

हर बार यही कहते हो…
“ये कोई तरीक़ा है प्यार करने का”
हर बार यही समझाते हो ….
“ये कोई तरीका है शिकायती होने का”
पर तुम क्यों नहीं समझ लेते एक बात
ये जो कुछ भी है …….
आशाएँ , अपेक्षाएँ …
तुम्हारे सानिध्य की लालसाएँ
तुम्हारी उपेक्षा से आहत आकुलताएँ
असुरक्षित से मन की छटपटाहतें
तुम्हारे ध्यान को चाहती निगाहें
तुमको ही हर क्षण में जोहती आहें
और इन सभी में निहित मेरी भावनाएँ
तुम क्यों नहीं समझ लेते मेरी उदासियाँ
बिन तेरे पल पल की मेरी तन्हाईयाँ
मेरी रुक्षता, मेरी तड़फ, मेरी लड़ाईयाँ
इन सभी की धुरी में तुम हो, तुम्हारा साथ है
कितनी ही बार कह चुके हम “चले जाओ”
“नहीं चाहिये तुम्हारा साथ ” “भूल जाओ”
पर सच पूछो मन से तो क्या हुआ ऐसा ?
क्या हो पाया ऐसा , नहीं ना !
होगा भी कैसे , इतनी शिद्दतें जुड़ी हैं
क्या अब भी यही कहोगे “ये कोई तरीका है”
हक़ जताने का , प्यार पाने का , प्यार करने का !!!!
******
डॉ. अनिता जैन “विपुला”

Author
डॉ. अनिता जैन
Lecturer at college . Ph. D., NET, M. Phil. M. A. (Sanskrit , Hindi lit.) अंतर्मन के उद्गारों को काव्य रूप में साझा करना ।
Recommended Posts
तुम्हारे नवीन विचार
तुम्हारे बारे में न सोचते हुए भी सोचतीं हुँ, तुम्हें अपने जीवन में चाहतीं हुँ एक बार। तुम्हारे नवीन विचारों में, खो जाती हुँ, और... Read more
हर बार शिकायत हो जरूरी तो नही
हर बार शिकायत हो , जरूरी तो नहीं हर बार खिंलाफत हो, जरूरी तो नहीं ***************************** होतें हैं धोखे कभी कभी नजरों के भी हर... Read more
माँ..मैं तेरी आत्मजा
माँ..मेरी आवाज तो सुनो क्षण भर रुको..तुमसे दो बाते तो कर लूँ इकबार तो सुन लो माँ "मै हूँ तुम्हारी आत्मजा" माँ दिल में तो... Read more
एक सुन्दर नव पुष्प को संबोधित - कविता
कितनी बार, मैंने तुम्हारी ओर देखा, कितनी बार- मैंने तुम्हें स्पर्श की कोशिश की हर बार, जब भी मैंने ऐसा किया, मैं रोमांचित हो उठा,... Read more