Jul 16, 2018 · गीत
Reading time: 1 minute

ये कैसी बारिश आई है

नभ के हर कोने पर,तेरी ही रानाई है,
ये कैसी बारिश आई है।

अधरों के तपते शोलों पर,शबनम की बूँद लुभाई है,
सदियों से प्यासे तन-मन की, प्यास और भड़काई है।
पर मैने मन की उत्कृन्ठा,मन में ही दफनाई है,
मेघों की उमड़-घुमड़ मे जैसे,तेरी ही अंगड़ाई है।
ये कैसी बारिश आई है।

तन मे गिरती हर बुँदों का,ख़लिश और तड़पाती है,
यादें तेरी नख-शिख की अब,रह-रहकर आती-जाती है।
काजल तेरे अब्सारों का,मांथे की बिंदिया दीवानी,
मुझको और सताती है,यादों का चुभन बढ़ाती है।
ऐसे मौसम में भी तेरे,यादों की बदली छाई है,
ये कैसी बारिश आई है।

1 Like · 33 Views
Copy link to share
अमरेश गौतम'अयुज'
23 Posts · 1.3k Views
Follow 1 Follower
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता Books: अनकहे पहलू(काव्य संग्रह) अंजुमन(साझा संग्रह) मुसाफिर(साझा संग्रह) साहित्य उदय(साझा संग्रह) काव्य अंकुर(साझा... View full profile
You may also like: