"ये कैसा सावन"

ये कैसा सावन आया,
कैसी ये वर्षा ऋतु |
तन भीगा, मन कोरा,
नाचा नहीं ये मन मयूर|
ना झूला ना कजरी,
केवल मेघों का है शोर|
नौनिहलों की नाव कहाँ,
केवल बस्तों का है बोझ|
दादुर भी अब मौन हुए,
अब नहीं पपीहे के बोल ||
…निधि…

Like Comment 0
Views 27

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share