31.5k Members 51.9k Posts

" ये आवारगी "

Apr 11, 2020 09:30 PM

बहुत सुंदर हुआ करती है ये आवारगी ,
हर प्रेमी की पहचान होती है ये आवारगी ।

कुछ पल के लिए कभी गिरा देती है ये आवारगी ,
तो कभी सराखो पर बिठा देती है ये आवारगी ।

कभी खुले जुल्फों के लिए शायरी बुला लेती है ये आवारगी ,
कभी पत्थर को भी पूज्नीय बना देती है ये आवारगी ।

पल भर में खुशियों की सौगात लाती है ये आवारगी ,
कभी नग्न पैरों में भी छाले पड़ा देती है ये आवारगी ।

बारिश की एक बूंद से भी प्यास बुझा देती है ये आवारगी ,
कभी समन्दर के पास भी एक बूंद के लिए भी तरसा देती है ये आवारगी ।

हर मंजिल की शुरुआत होती है ये आवारगी ,
कुछ भी हो बड़ी नादान होती है ये आवारगी ।

🙏 धन्यवाद 🙏

✍️ ज्योति ✍️
नई दिल्ली

1 Like · 3 Views
ज्योति
ज्योति
Gopalganj , Mirganj , Bihar
232 Posts · 2.6k Views
पिता - श्री शिव शंकर साह माता - श्रीमती अनिता देवी जन्मदिन - 09-10-1998 गृहनगर...
You may also like: