" ये आँसू के धारे हैं " !!

दर्द है जगा कहीं ,
आंखों में नमी नमी !
यादों के जंगल में ,
कांटों की कमीं नहीं !
कभी छुअन , बनी तड़पन –
हम आँसूं भी वारे हैं !!

दूर तक है खामोशी ,
आस है बुझी बुझी !
प्यार की पहेलियां भी ,
क्यों रही सदा उलझी !
रहे मगन , किये जतन –
ये आँसूं भी हारे हैं !!

खुशी तो है कपूर सी ,
कभी हुई है कैद भी !
जो मिली हैं मुस्कानें ,
कर गई वे भी ठगी !
कभी हार है मनुहार है –
ये आँसूं तो प्यारे हैं !!

मस्त ये धरा गगन ,
झूमता था मन मगन !
स्मृतियों के फेर में ,
यथार्थ का आलिंगन !
कभी सबब है , प्रेरणा है –
ये आँसूं तो न्यारे हैं !!

बृज व्यास

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 222

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing