मुक्तक · Reading time: 1 minute

यूं ही

एक नजर……आज यूँ ही पर……………..आपकी नजर

न दे तू इल्जाम हवाओं को यूँ ही
रोक कुछ देर फिजाओं को यूँ ही
**************************
मैने ये कब कहा कि लौटूंगा नही
रोक कुछ देर तमन्नाओ को यूँ ही
**************************
कपिल कुमार
15/02/2016

4 Comments · 23 Views
Like
154 Posts · 6.2k Views
You may also like:
Loading...