.
Skip to content

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था…..

suresh sangwan

suresh sangwan

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था
मुहब्बत में इतना भी मजबूर न था

ये ज़िंदगी मेरी रोशन थी उससे
अगरचे वो चमकता कोहिनूर न था

आबादियों ने क्या दी पहचान ए दिल
बर्बादियों से पहले मशहूर न था

है कौन सी सूरत महबूब तिरी ये
मेरा सनम तो इतना मगरूर न था

इश्क़ बिन भी जितनी ज़िंदगी गुज़री
था ज़ायक़ा उसमें पर भरपूर न था

परवाह थी बिजली और तूफ़ान की
बरसात में जीने का शऊर न था

जितना समझते थे आप मुझे हरदम
मगर इतना भी तुमसे मैं दूर न था

हसरत भरा ये दिल खाली कर डाला
इस तर ह मैं हल्का कभी हुज़ूर न था

——–सुरेश सांगवान ‘सरु’

Author
suresh sangwan
Recommended Posts
**** तिलिस्म जिंदगी का। ****
************************ तिलिस्म जिंदगी का भी कितना अजीब है कैच जिंदगी को करने मौत बाउंड्री पर खड़ी है जिंदगी और मौत के दरमियां इतना फासला है... Read more
**** जिंदगी जिंदगी होती है ****
जिंदगी जिंदगी होती है दौलत तो एक खिलौना है कभी हम खेलते हैं उससे और कभी वो खेलती है हमसे फर्क इतना है दौलत बेजूबां... Read more
*
जवाब है तो जिंदगी सहज है, वरन् विरान है जिंदगी, एक तरफ उन्नति, दूसरी ओर अवन्ति है जिंदगी, जवाब है तो उन्नति है जिंदगी, निरुत्तर... Read more
मयखाना
अब मुझे मयखाना भा गया है, यूँ ये 'हंस' मधुशाला आ गया है। देख मंजर इस हसीं शाम का, है छलकता यहाँ पैमाना जाम का।... Read more