.
Skip to content

युवा शक्ति

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

कविता

August 20, 2016

?युवा शक्ति ?
?????????
उठ जाग अब मेरे देश के नौजवान
तेरे सोने से पूरा जग परेशान
आलस की आंधी में क्यों खो रहा है ।
नशे की नींदों में क्यों इतना सो रहा है ।
तूने ही देश को बुलंदियों पर है लाना
अपनी काबिलियत से है इतिहास रचाना ।
पर तू तो खुद ही हो कमजोर गया ।
न जाने किधर वो तेरा जोर गया ।
लगते थे जोश के जो हर बरस मेले ।
हो गए सब अपने स्वार्थ में अकेले।
नशे की सरिता में क्यों खुद को डुबो रहा है ।
अपनी अमूल्य ताकत को युहीं क्यों खो रहा है ।
अब भी वक़्त है , जाग कर कुछ कर दिखाने का
नाम भारत का आसमान में चमकाने का
देखना नहीं मुड़ कर पीछे , जब तक दिखे ना साहिल
कर जूनून से मेहनत , मिलेगी एक दिन तुझे मंजिल ।
वो कबड्डी की महक और कुश्तियों का कोना ।
क्यों नशे की जिद में तुझे , पड़ा ये सब खोना ।
ताकत और जोश का रच दे फिर से इतिहास ।
न तेरी कमजोरी का उड़ाए , दुनिया उपहास ।
बहन बेटियों की इज्जत का बन तू रखवाला ।
न इनका कर अपमान , बन तू खुद में मतवाला ।
तेरी ताकत के किस्से हो हर ओर, ऐसी ही कर आशा तू
कर कर्म फिर से जिंदादिली के , ऐसी ही कर अभिलाषा तू ।
अब न रह तू अपनी शक्तियों से अनजान
उठा शस्त्र अपने , बन जा महान
उठ जाग मेरे देश के नौजवान
तेरे सोने से पूरा जग परेशान

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
जाग युवा भारत के अब तो , ले आ वापिस देश की शान को
हो गयी गलतियां तुझसे अतीत में बेशक, अब तो सम्भल जा वक्त है तेरे पास बेदाग़ जिंदगी जी भोग विलास से हटकर सफल कर जिंदगी... Read more
व्यापारी राजा
व्यापारी राजा! हे भारतीय मन मेरी बात ध्यान से सुनना। चाहिए ग़र बदलाव विकास संग तो नव स्वप्न सब बुनना। शब्द 'व्यापारी राजा' से क्यों... Read more
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है । आदमी की चादर है आधी , पैर दुगुने पसार रहा है । वाह ! मेरा देश... Read more
नारी व्यथा
" नारी-व्यथा " """""""""""""""""" कैसी निर्बल ? कैसी निशक्त ? क्यों अबला मैं बन बैठी ?? क्यों मेरा अपमान हुआ ? क्यों मेरा चीर-हरण हुआ... Read more