युवा शक्ति

?युवा शक्ति ?
?????????
उठ जाग अब मेरे देश के नौजवान
तेरे सोने से पूरा जग परेशान
आलस की आंधी में क्यों खो रहा है ।
नशे की नींदों में क्यों इतना सो रहा है ।
तूने ही देश को बुलंदियों पर है लाना
अपनी काबिलियत से है इतिहास रचाना ।
पर तू तो खुद ही हो कमजोर गया ।
न जाने किधर वो तेरा जोर गया ।
लगते थे जोश के जो हर बरस मेले ।
हो गए सब अपने स्वार्थ में अकेले।
नशे की सरिता में क्यों खुद को डुबो रहा है ।
अपनी अमूल्य ताकत को युहीं क्यों खो रहा है ।
अब भी वक़्त है , जाग कर कुछ कर दिखाने का
नाम भारत का आसमान में चमकाने का
देखना नहीं मुड़ कर पीछे , जब तक दिखे ना साहिल
कर जूनून से मेहनत , मिलेगी एक दिन तुझे मंजिल ।
वो कबड्डी की महक और कुश्तियों का कोना ।
क्यों नशे की जिद में तुझे , पड़ा ये सब खोना ।
ताकत और जोश का रच दे फिर से इतिहास ।
न तेरी कमजोरी का उड़ाए , दुनिया उपहास ।
बहन बेटियों की इज्जत का बन तू रखवाला ।
न इनका कर अपमान , बन तू खुद में मतवाला ।
तेरी ताकत के किस्से हो हर ओर, ऐसी ही कर आशा तू
कर कर्म फिर से जिंदादिली के , ऐसी ही कर अभिलाषा तू ।
अब न रह तू अपनी शक्तियों से अनजान
उठा शस्त्र अपने , बन जा महान
उठ जाग मेरे देश के नौजवान
तेरे सोने से पूरा जग परेशान

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 2.1k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share