गीत · Reading time: 1 minute

युग निर्माण करें सब मिलकर::– जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट १३८)

युग निर्माण करें सब मिल कर, मानवताके पथ पर चलकर ।
परम अपेक्षित है गीताके ,परमतत्व को फिर पाने की ।
आवश्यकता है भारतको , कर्म- मार्ग पर फिर जाने की।
जन- गण- मन दायित्व निभाये ,पार्थ – सारथी बनकर, बढ़कर ।
युग निर्माण करें सब मिलकर, मानवता के पथ पर चल कर ।।

मिले वस्त्र , भोजन, घर, सबको मिले सुशासन ,न्याय, चिकित्सा ।
हर हाथों को काम मिले जब विद्युत निर्मल , नीर, सुशिक्षा ।
सत्य प्रेम , शुचिता के बल पर, देश बढ़ेगा देव रूप धर ।
युग निर्माण करें सब मिलकर, मानवता के पथ पर चल कर ।।
— जितेंद्रकमलआनंद| रामपुर ( उ प्र ) दिनॉक ९-११-१६ चलित वार्ता: 7017711018

22 Views
Like
150 Posts · 5.4k Views
You may also like:
Loading...