Skip to content

याद मेरे गाँव की

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

February 15, 2017

मुझे सोने नहीं देती,
खुश होने नहीं देती,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

जिस आँगन में बचपन बीता वो सूना पड़ा है,
खंडहर हो गया पर घर मेरा आज भी खड़ा है,
अपनों के करीब रखती है,
बनाये खुशनसीब रखती है,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

वो गलियाँ वो कच्चे रास्ते आज भी बुलाते हैं,
सखियों के संग बिताए वो लम्हें बहुत रुलाते हैं,
अक्सर ही बेचैन कर जाती है,
आँसुओं से आँखें भर जाती है,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

खिंच लाता है गाँव में बड़े बूढ़ों का आशीर्वाद,
लस्सी, गुड़ के साथ बाजरे की रोटी का स्वाद,
मन में एक आश जगा जाती है,
एक पल को दुनिया भुला जाती है,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

शहरों में कहाँ मिलता है वो सुकून जो गाँव में था,
जो माँ की गोदी और नीम पीपल की छाँव में था,
समय मिलते ही गाँव बुला लेती है,
चंद खुशियां दामन में डाल देती है,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

जल बिन मीन के जैसे मैं छटपटाती रहती हूँ,
किस्से बचपन के अक्सर गुनगुनाती रहती हूँ,
दिल में अपने मैंने है पाली,
“सुलक्षणा” ने शब्दों में ढ़ाली,
याद मेरे गाँव की, याद मेरे गाँव की।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
कविता: वो बचपन की यादें
आज फिर याद आई मुझे मेरे गाँव की। वो बचपन की यादों की वो पीपल की छांव की।। १.माँ की ममता के आँचल तले, कितने... Read more
मुझे वो दिन बहुत याद आते है
वो बचपन के दिन ।। वो हँसना खिलखिलाना ।। वो खेल खिलौनो से खेलना ।। वो रोना फिर मनना ।। मुझे वो दिन बहुत याद... Read more
__________________________________ घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं... ******************************* मैने उसे याद किया नहीं पहले... Read more
!! तेरी याद !!
आज तेरी याद आ गयी पास मेरे हम उस को सीने से लगा कर बहुत रोये जब वो याद को थोडा सकूंन मिला तो हम... Read more