.
Skip to content

याद दिल में तो बसी है तेरी

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

September 12, 2017

ग़ज़ल
******
बन गयी है मेरी खुशी तेरी
हो चुकी है ये जिन्दगी तेरी
?
मीठी बातों से से जग ये लूट लिया
कितनी अच्छी बहादुरी तेरी
?
आज छत पर भी मेरे आई है
शुक्रिया चाँद चाँदनी तेरी
?

फूल खिल जाते जब तू हँसती है
भा गयी दिल को ये हँसी तेरी

?
वो सलासिल से बाँधकर पूछे
कह दे ख़्वाहिश जो आख़िरी तेरी

?
ग़म की राहों में देती हैं रस्ता
यादें बनकर के रौशनी तेरी

?
भूलने वाले देख ले आकर
आज भी खलती है कमी तेरी

?

फूल-ओ-चाँद रश्क़ करते हैं
देख कर जानां सादगी तेरी
?

जा रहा बज़्म से नहीं तन्हा
याद दिल में तो है बसी तेरी

?
क्या फ़लक से तू चलके आई है
चाँद से शक्ल —–मिल रही तेरी

?
मात खा जाएँ देख कर “प्रीतम”
फूल कलियाँ —-ये नाजुकी तेरी
?
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
11/09/2017
?????????
2122–1212–22/112
?????????

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
क्या कहूँ अब तुमसे.......... तेरी हो गयी |गीत| “मनोज कुमार”
क्या कहूँ अब तुमसे तो ये रूह दीवानी हो गयी मीरा सी दीवानी ये दीवानी तेरी हो गयी क्या कहूँ अब तुमसे.......................................... तेरी हो गयी... Read more
मुक्तक
मेरे दिल से तेरी बेवफाई न गयी! मेरी नजर से तेरी रुसवाई न गयी! मुश्किल से अंजाम को भूला हूँ लेकिन, तेरे प्यार की कभी... Read more
इनायत (ग़ज़ल)
ग़ज़ल ----- मुझपे इनायत जो तेरी बनी रहे। मेरे जीने की हसरत बनी रहे। तेरी इबादत ही है करम अपना। ये हमेशा मेरी आदत बनी... Read more
फूल कलियाँ ये नाजुकी तेरी
बन गयी है मेरी खुशी तेरी हो चुकी है ये जिन्दगी तेरी मीठी बातों से जग ये लूट लिया कितनी अच्छी बहादुरी तेरी आज छत... Read more