गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

याद इक किस्सा पुराना आ गया

याद इक किस्सा पुराना आ गया।
सामने बीता ज़माना आ गया।

अब न कोई देख उनको पाएगा
आँसुओं को मनाना आ गया।

जीतने का था हुनर उसको पता
यूं उसे हमको सताना आ गया।

क्यों समझ पाया न दिल की बात यह
अब समय संग बस भुलाना आ गया।

ज़ख्म हैं गहरे बहुत ही यह अभी
हौंसलों से खुद सजाना आ गया।।।
कामनी गुप्ता ***

8 Comments · 81 Views
Like
55 Posts · 9.1k Views
You may also like:
Loading...