Mar 11, 2017 · कविता

यादों के झोकें

यादों के तेरे जब
झोकें चले आते हैं
सांसों मे तेरी महकों के
गुलाब चले आते हैं ।

ख्वाबों मे गुजरे हुए
हसीन वो पल चले आते हैं
उठती हुई दिल की तंरगों मे
तरन्नुम के सुर चले आते हैं ।

जीने को उन पलो को दोबारा
मचले हुए अरमान चले आते हैं
जन्म जन्म तुझे पाने को
मधुर मधुर अहसास चले आते हैं ।

तन्हा अंधेरी रातों मे
तेरे साये चले आते हैं
भूल न जाऊं तुझे इक पल को
जताने तेरा प्यार चले आते हैं ।

राज विग

174 Views
Working as an officer in a PSU. vigjeeva@hotmail.com
You may also like: