.
Skip to content

यादों के झरोखे से

Pritam Rathaur

Pritam Rathaur

गज़ल/गीतिका

April 20, 2017

?????
तामीर के रौशन चेहरे पर तख़रीब का बादल फैल गया ।
आमद हुई क्या अश्कों की आँखों का काजल फैल गया ।
?????
भूल चुका था मांझी को पर आज जो देखा उसको मैं
इक तीर लगी इस सीने में दिल ये घायल फैल गया
?????
घूम उठे हैं आँखों में गुज़रे दिनों के वो मंज़र
खोने लगा फिर चैन मिरा यादों का संदल फैल गया
?????
साथ हमारे चलते थे “प्रीतम” बनके हमसाया
उस आज़ सुहानी राहों में ग़म का जंगल फैल गया

Author
Pritam Rathaur
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है... Read more
Recommended Posts
आज फिर यादों का जन्म हो गया
सारी यादों का था कत्ल हो गया आज फिर उससे मिलन हो गया गुज़रा हुआ कल था समक्ष फिर आज फिर दिल में जख्म हो... Read more
सनम तुम्हारी यादों की धुंध दिन-प्रतिदिन गहन होती जा रही है, क्योकिं तुमने अपनी यादों के चिराग़ बूझा डाले हैं ! मग़र मै आज भी... Read more
दिल के अहसास जब घर मे फैल जाते है ....
दिल के अहसास जब घर में फ़ैल जाते है नाम बदल के हम कुछ और कहे जाते है उनसे मिलने के लाख जतन करते है... Read more
मुक्तक
आज भी यादों का ग़ुबार है दिल में! आज भी ख्वाबों का संसार है दिल में! दर्द है जिन्दा अभी जुदाई का मगर, आज भी... Read more