Aug 27, 2017 · कविता

यादों का झोका

कभी……
जब उदासी के खन्डहर में कैद होता हूं मैं,
तब पता नही कहा से आता है तेरी यादों का झोका।
और बिखेर देता है तेरी सांसों की खुशबू फिजाओ में
दिल में खिल उठते है उम्मीदों के फूल ।
तब तेरे वजूद का होने लगता है अहसास ।
और दिल कहता है कि तुम हो मेरे आसपास ।।
और कभी…….
लाता है मायूसी के बादल,
छा जाती है गम की घटा तब।
दिल के आंगन में होने लगती है
दुख की बरसात ।
भींग जाता है मन दर्द की बूदों से
तब दिल को चाह होती है तेरे
प्यार के साये की ।।
✍ अनीश शाह

1 Like · 143 Views
ग़ज़ल कहना मेरा भी तो इबादत से नहीं है कम । मेरे अश्आर में अल्फ़ाज़...
You may also like: