Skip to content

यादें

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

December 1, 2016

काॅच की सी गुड़िया जिसकी बात कर रहा हूँ ।

बहुत सताती थी जिसको में याद कर रहा हूँ ।

वो भी क्या दिन थे, जब वो साथ रहा करती थी ।

हम सबका ध्यान वो अकेले रखा करती थी ।

मम्मी की गुड़िया पापा की राजकुमारी थी ।

मत पूछो हमसे हमको वो जान से प्यारी थी ।

लड़ती झगड़ती कभी हमसे रूठा करती थी . ।

पर अपनी मुस्कान से रौनक लाया करती थी ।

हर तीज त्योहार पर वो सुंदर रंगोली बनाती थी ।

सबसे ज्यादा खुश जब वो रक्षाबंधन मनाती थी ।

हम सोकर न उठ पाये वो थाली सजा लाती थी ।

हमको जल्दी जगाने को कई तरकीब आजमाती थी ।

राखी बांधकर वो बस हमसे यही कहती थी ।

तोहफे नहीं वो बस हमारा युंही स्नेह चाहती थी ।

कांच की सी गुड़िया जिसकी बात कर रहा हूँ ।

बहुत सताती थी जिसको में याद कर रहा हूँ ।

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more