.
Skip to content

यादें

Naveen Jain

Naveen Jain

कविता

November 9, 2016

विषय – खट्टी मीठी यादें

कुछ खट्टे मीठे जीवन के मेरे बिताए पल ।
बताते हैं मुझे कि कितना गया मैं बदल ।।
जब भी मैं यादों के झरने में जाता हूँ ।
अपनी आँखों को मैं भींगा हुआ पाता हूँ ।।
वो भींग जाती हैं मुझे मेरा अंतर बताती हैं ।
कभी सुनहरे पल जो याद आते हैं ,
हम अपने आपको बस सान्तावना दे पाते हैं ।।
पर कभी जो संघर्षमय पल याद आते हैं ।
हम अपने आप को धीरज बँधाते हैं ।।
यादों की याद आ जाने पर जाने क्या मंतर हो जाता है ।
सारा दुख दर्द छूमंतर हो जाता है ।।
बस वैराग्य की सी भावना कुछ पल के लिए जन्म ले लेती है ।
शायद उतने ही पल में वो भावना जीवन का सार समझा देती हैं ।।
कभी बचपन की यादें जैसे –
विद्यालय में पढ़ना , दोस्तों के साथ मस्ती ।
लगता था जल्दी से हम बन जाएँ बढ़ी हस्ती ।।
यादें तो बहुत होती हैं और जब याद आती है ,
इस दिल को झकझोर जाती है ।।
खट्टी, मीठी, सुनहरी यादों के तो बहुत प्रकार हैं ।
यादों पर ही टिका दिल, यादें दिल पे सवार हैं ।।

– नवीन कुमार जैन

Author
Naveen Jain
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं -... Read more
Recommended Posts
तेरी यादें
तेरी याद में कुछ इस कदर मैं खो जाता हूँ, कभी कभी तो मैं रोते रोते सो जाता हूँ। तू मिले ना मिले नहीं परवाह... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more
मिलन के पल
प्रिय ! तुम्हारे साथ के वह पल या तुम्हारे बिना यह पल दोनों पल, कैसे हैं ये पल ? जला रहे हैं मुझे पल पल... Read more
गज़ल
न छुपा मुझे तु कहीं, मैं कभी छुप न पाऊँगा, दरिया हूँ मैं, एक उम्र के बाद रुक न पाऊँगा ! तु समेट लें यादों... Read more