Jul 12, 2016 · लेख

यादें

सोचता हूँ अब याद न करूँ..
उस बुरे वक्त को
उस कठिन राह को
उस भयभीत पल को
उस भयावह कल को
मगर कमबख्त ये यादें
याद आ ही जाती हैं
__________________बृज

1 Like · 1 Comment · 39 Views
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं...
You may also like: