.
Skip to content

यादें

Versha Varshney

Versha Varshney

कविता

September 9, 2016

जैसे कोई बुझता हुआ दीपक ,
तेज रोशनी से अँधेरे को रोशन कर जाए ।
यादों से आज भी कुछ गुलशन महके हुए लगते है ।

मस्ती कहाँ थी जाम को पीने की ,
वो तो मजबूरी थी यादों को भुलाने की
पीने दे ऐ साकी फिर से तेरी नजरों से
आज भी कशिश है बाकी उनकी यादों की ।।

कभी सोचा था वीराने भी किसी सजा से कम नहीं ,
आज जाने क्यों वो खंडहर भी अपने जैसे लगते हैं ।

Author
Versha Varshney
कवियित्री और लेखिका अलीगढ़ यू पी !_यही है_ जिंदगी" मेरा कविता संग्रह है ! विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में लेखन ! साझा संकलन -१.भारत की प्रतिभाशाली हिंदी कवयित्रियाँ ! २.पुष्पगंधा pride of the women award 2017 Money is not important then... Read more
Recommended Posts
यादें।
पूछना उन दरख्तों औऱ झीलों झरनों से गुजरोंगें जब तुम उस राहों से तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं। हमारी सिसकियों से वो भी... Read more
यादों का सफ़र।
यादों का सफ़र यादों का तेरी इस कदर छाया उन्माद है, वो मीठी स्मृतियां आज फिर बन गयी संवाद है। आलोकित मधुर बसंत सी पिया... Read more
कविता: वो बचपन की यादें
आज फिर याद आई मुझे मेरे गाँव की। वो बचपन की यादों की वो पीपल की छांव की।। १.माँ की ममता के आँचल तले, कितने... Read more
मुक्तक
आज भी यादों का ग़ुबार है दिल में! आज भी ख्वाबों का संसार है दिल में! दर्द है जिन्दा अभी जुदाई का मगर, आज भी... Read more