कविता · Reading time: 1 minute

यह संसार, मायामयी मस्ती l

गुरू कबीरा को प्रणाम ( शृंखला )
———–
मायामयी मस्ती की पाठशाला l
सहज ज्ञान ले लो निराला निराला ll
प्यास पनपे परम परम हो, पर न हो,
महकती मधहोश करती, मधुशाला l
———–
यह संसार, मायामयी मस्ती l
दुखों की सुविधाएँ, बडी सस्ती ll
सुख क्या होता, कोई ना जाने l
तो दु:ख पा ही गये, जबरदस्ती ll
जीने, जाने में, जरा फरक हैं l
पर “प्यास” ले, ये दुनियाँ तरसती ll

अरविन्द व्यास “प्यास”

1 Like · 31 Views
Like
Author
परिचय नाम : अरविन्द व्यास "प्यास" पूर्ण नाम : अरविन्द कुमार लक्ष्मीनारायण व्यास पिता का नाम : लक्ष्मीनारायण व्यास जन्म तारीख व स्थान : ३ जून १९५२, कल्याण, महारास्ट्र इंजीनियरिंग…
You may also like:
Loading...