.
Skip to content

यह नगरी है (२)

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

April 7, 2017

यह नगरी है ,
सिद्धों की, परम प्रसिद्धों की ।
कान खड़े रहते हैं जिनके ,
परनिंदा हरक्षण सुनने को ।
नाक सदा जो पेंनी रखते ,
गंध घृणा की ही लेने को ।
मुंह भी लम्बा-चौड़ा करते ,
धर्म-कर्म की डींग हांकने​ ।
आंखें सदा टिकाए रहते ,
परस्त्री की देह ताकने ।
सूखकर ज्यों डाल गिरी रूख से ।
आदमी ज्यों मर गया हो भूख से ।
उसके मरण-भोज की
आस में बैठे हुए कुछ ,
चीलों , कौओं , गिद्धों की ।
यह नगरी है ,
सिद्धों की , परम प्रसिद्धों की ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
यह नगरी है  (१)
यह नगरी है , बुद्धों की , परम प्रबुद्धों की । मुर्गे की जो टांग खींचते , सदा सत्य से आंख मींचते । वियर- बार... Read more
[[[[ मिलन ]]]]
शीर्षक साहित्य परिषद् द्वारा दैनिक श्रेष्ठ चयनित रचना ---- [[[ मिलन ]]] आसमां से ज्यों धरती, मिले दूध से ज्यों पानी | आओ सनम बाँहों... Read more
ज़िंदग़ी सिगरेट का धुआँ  (नवगीत)
ज़िंदग़ी सिगरेट का धुआँ । कहीं खाई, कहीं कुआँ । ज़रदे जैसी यह ज़हरीली , लाल - हरी और नीली-पीली । बढ़ती देख सदा जलती... Read more
प्रीतम की कुंडलिया..2
सुन प्रीतम की बात..कुंडलिया छंद *********************** 1..कुंडलिया *********************** दशहरा यूँ मनाइए,मन का रावण ढ़ले। प्रेम के हवन-यज्ञ में,बुराई पूर्ण जले।। बुराई पूर्ण जले,पावन हृदय हो... Read more