23.7k Members 49.9k Posts

यह नगरी है (१)

यह नगरी है ,
बुद्धों की , परम प्रबुद्धों की ।
मुर्गे की जो टांग खींचते ,
सदा सत्य से आंख मींचते ।
वियर- बार में मंजन करते ,
कटुता से जो रंजन करते ।
राजनीति की डींग हांकते ,
सदा पराया माल ताकते ।
दर्शन का विश्लेषण करते,
तथाकथित कुछ शुद्धों की ।
यह नगरी है ,
बुद्धों की , परम प्रबुद्धों की

Like 1 Comment 0
Views 422

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर , मध्यप्रदेश
95 Posts · 64.7k Views
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02...