23.7k Members 49.8k Posts

यही किस्सा हमारा उम्र भर का...

यही किस्सा हमारा उम्र भर का ….
*******************************
*
रहे हिस्सा कराते इस जिगर का,
यही किस्सा हमारा उम्र भर का ।
*
दरोदीवार से वाकिफ हुए तब,
पता हमको चला जब खंडहर का ।
*
खुमारी इश्क की अब जान लेगी,
पता हमको नहीं था इस असर का ।
*
तमन्ना है तुम्हें भेजूँ कभी खत,
पता मिल जायगा क्या आज घर का !
*
सुना है खूब कब्रें हैं अदब की,
तभी तो नाम है तेरे शहर का ।
*
बता देना उसे रस्ता न देखे,
नहीं करना हमें अब रुख उधर का !

*
जरा सी आँख लगने पर ज़ुलम क्यों,
जगा हूँ मैं समूचे रात-भर का !
*
हमें तहजीब देने चल पड़ा है,
निगोड़ा एक छोरा हाथ-भर का ।
*
हुए तो हैं कई रद्दोबदल पर,
मजा फिर भी वही तिरछी नजर का ।
*
मुहब्बत गर करो, बेखौफ होकर,
यही पैगाम मेरे हमसफर का ।
*
कहो न “हरीश” इससे बस करे अब,
दिवाना कौन है यह इस कदर का ?

*******************************
हरीश लोहुमी , लखनऊ
*******************************

Like Comment 0
Views 45

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
हरीश लोहुमी
हरीश लोहुमी
25 Posts · 3.2k Views
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो...