Dec 2, 2017 · घनाक्षरी
Reading time: 1 minute

यथा क्रम अलंकार (एक से पांच राम तक)- गुरू सक्सेना

एक से पाँच राम तक
यथाक्रम अलंकार

घनाक्षरी छंद

राम की कृपा से आते जाते दो अभिन्न मिले,
वाणी पै विराजमान राम-राम हो गए।
तीन काल तीन ताप तीन गुण तीन ऋण,
तीनों में समाये राम, राम-राम हो गए।
चार वेद जिनकी न महिमा बखान सके,
चारों युग राम राम राम-राम हो गए।
अगन पवन जल धरन गगन राम,
भिन्न राम राम राम राम राम हो गए।

गुरु सक्सेना नरसिंहपुर( मध्य प्रदेश)

157 Views
Copy link to share
guru saxena
111 Posts · 10.3k Views
Follow 4 Followers
You may also like: