यथार्त व्यंग---उल्लू का मन जीत लिया

यथार्त व्यंग =========
मात्रभार /१६-१४
देख जमाने की आदत को , राज बदलना सीख लिया /
उल्लू फौज बराती बनकर , उल्लू का मन जीत लिया /
बढ़ती संख्या जब उल्लू की, दिन मे तम ही छाता है /
दिन को रात रात को दिन कह , सबके मन को भाता है /
राजकिशोर मिश्र ‘राज’ प्रतापगढ़ी

11 Views
लेखन शौक शब्द की मणिका पिरो छंद, यति गति अलंकारित भावों से उदभित रसना का...
You may also like: