.
Skip to content

म्हारी होळी

सतीश चोपड़ा

सतीश चोपड़ा

कविता

March 13, 2017

म्हारी होळी
होळी तो सै त्योंहार रंगां का
फाग भाभी गेल्याँ खेलण का
सारा साल हाम देखा बाट
कद आवै मिहना फागण का

भाभी नै भेवण का चा देवर नै
ना डर कती कोर्डयां का हो सै
बेशक लील गात पै पड़ ज्या
ना डर कै पाछे हटणा हो सै
न्यारा ए मजा आवै सै खा कै
दस बीस कोरडे नाटण का

कदे ओळे अर कदे सोळे आवें
वा मारै आखर जोर लगा कै
देही में जब सरणाटा सा होवै
वा मारै जब लाम्बा हाथ बढ़ा कै
टोवै खूब किसे नै पाता कोन्या
रास्ता फेर किते भी भाजण का

रंग गेर दे अर गुलाल भी लगा दें
किसे चीज का परहेज कोन्या
पाणी में ये भाभी नै तर कर दें
शीळा का भी परहेज कोन्या
टेम भी भाभी नै मिलता कोन्या
हो कैं खड़ी कूण में कापण का

सारा दिन सब करैं मस्ती खूब
धमाचौकड़ी सारा गाम मचावै
बैर विरोध रवैह ना याद किसे कै
इसा गजब का हाम सांग जमावै
खेली जो जम कै उस भाभी नै
मजा लाडू रात नै बाटण का

होळी तो सै त्योंहार रंगां का
फाग भाभी गेल्याँ खेलण का
सारा साल हाम देखा बाट
कद आवै मिहना फागण का

Author
सतीश चोपड़ा
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय... Read more
Recommended Posts
विराट पर्व:तेरे जैसी बीर दुसरी जहान मैं कोन्या
विराट पर्व: नंदलाल जी की एक बेहतरीन रचना.... टेक: तेरे जैसी बीर दुसरी जहान मैं कोन्या, तुर्की बेल्जियम अमेरिका जापान मैं कोन्या। लरजती कदली तरह... Read more
किस्सा / सांग - # चमन ऋषि - सुकन्या  #
सांग 13- चमन ऋषि . सुकन्या वार्ता:- सज्जनों! जब पाण्डवों को वनवास मिला हुआ था उस समय पांचों पाण्डव और साथ में द्रौपदी रानी लोमश... Read more
किस्सा / सांग - # नल-दमयन्ती # रचनाकार सूर्यकवि पं लख्मीचंद
*<<>>* पहले तो सभी छोटे-बडो़े को *पं मनजीत पहासौरिया* की तरफ से हाथ जोड़कर *राम राम* आज मित्रो आप सबके प्यार व आशिर्वाद से हमारे... Read more
किस्सा - बीजा सोरठ
मास्टर श्रीनिवास शर्मा की ग्रन्थावली से यह रागनी किस्सा - बीजा - सोरठ वार्ता - जब राजा जैसलदे उस परी को अपने साथ ले आता... Read more