.
Skip to content

मौत तो सबको एक दिन आती है

संतोष भावरकर नीर

संतोष भावरकर नीर

कविता

May 7, 2017

” मौत तो सबको एक दिन आती हैं”

हर सुबह एक नया पैगाम लाती है !
ज़िंदगी तो यूँ पल में गुज़र जाती है !!

पल की क्या होती है क़ीमत यारो !
वो तो ज़िंदगी ही हमें समझाती है !!

बादशाह हो वो या हो फिर फ़क़ीर !
मौत तो सबको एक दिन आती हैं !!

अपने दर्द को खुद सहना होगा तुझे !
ये काया संग किसी के नही जाती हैं!!

चलना उसी की मर्जी से होगा “नीर”!
ज़िंदगी ही सब कुछ हमें सिखाती है !!

संतोष भावरकर “नीर”
गाडरवारा (म.प्र.)

Author
Recommended Posts
इंसा तो इंसा है ख़ुदा कब है
Congratulations इंसा तो इंसा है खुदा कब है मौत से खुद की बचा कब है ******************** तख्तो ताज शहंशाह न रहे अब यहां कोई रुका... Read more
इंसा तो इसां है खुदा कब है
इंसा तो इंसा है खुदा कब है मौत से खुद की बचा कब है ******************** तख्तो ताज शहंशाह न रहे अब यहां कोई रुका कब... Read more
** हमारी सड़क सी  सपाट जिंदगी **
हमारी सड़क सी सपाट जिंदगी में मौत एक स्पीड ब्रेकर की तरह है जो हमे बार-बार सावधान करती है फिर भी हम जिंदगी की रफ़्तार... Read more
मौत का नाम तो मुफ़्त ही बदनाम है
इस गमें जिंदगी मे और भी तो काम है जिंदगी के साथ -2 मौत भी बेलगाम है ***************************** छोड़ जाती है अक्सर जिंदगी ही हमे... Read more