मौत तो सबको एक दिन आती है

” मौत तो सबको एक दिन आती हैं”

हर सुबह एक नया पैगाम लाती है !
ज़िंदगी तो यूँ पल में गुज़र जाती है !!

पल की क्या होती है क़ीमत यारो !
वो तो ज़िंदगी ही हमें समझाती है !!

बादशाह हो वो या हो फिर फ़क़ीर !
मौत तो सबको एक दिन आती हैं !!

अपने दर्द को खुद सहना होगा तुझे !
ये काया संग किसी के नही जाती हैं!!

चलना उसी की मर्जी से होगा “नीर”!
ज़िंदगी ही सब कुछ हमें सिखाती है !!

संतोष भावरकर “नीर”
गाडरवारा (म.प्र.)

360 Views
संतोष भावरकर नीर
संतोष भावरकर नीर
सालीचौका रोड,गाडरवारा (मध्य-प्रदेश)
2 Posts · 1.1k Views
माता-श्रीमती चंद्रकांता भावरकर पिता- स्व.श्री जे. एल.भावरकर पत्नी-श्रीमती रजनी भावरकर जन्म- 23/03/1975 (छिंदवाड़ा म. प्र.)...
You may also like: