Sep 10, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

मौत खुलकर कह गयी…

चल बसा निर्दोष घायल चीख कातर सह गयी.
खून सड़कों पर बहा जब मौत खुलकर कह गयी.
मज़हबी उन्माद घातक लोग डर-डर जी रहे,
एकता आतंक का पर्याय बनकर रह गयी..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

17 Views
Copy link to share
Ambarish Srivastava
133 Posts · 6k Views
Follow 4 Followers
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि... View full profile
You may also like: