Skip to content

मोहे प्रीत के रंग रंगना

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

March 11, 2017

रंग से नही रंगना,
सजन मोहे अपने रंग में रंगना !
कच्चे रंग दिखावे के,
मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !!
!
बारह महीनो चढ़ा रहे,
मोहे फाग के रंग में रंगना !
सावन भादो हरा रहे
मोहे ऐसे रंग में तुम रंगना !!
!
ज्यो – ज्यो चढ़े,
बैसाख – ज्येष्ठ की दुपहरी !
तपती धरती में,
हो जाये मेरा रंग भी पक्का !!
!
पूस – माघ की सर्दी में,
जम जम जाये, रंग हो ठंडा !
हर मास असर दिखाये,
सजन मोहे ऐसे रंग में रंगना !!
!
रंग से नही रंगना,
सजन मोहे अपने रंग में रंगना !
कच्चे रंग दिखावे के,
मोहे प्रीत के पक्के रंग रंगना !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

************************

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
बरसे है रंग.................... होली आई आज
बरसे है रंग और उड़े है गुलाल होली आई, होली आई, होली आई आज सुर भी है ताल और गीतों के साथ होली आई, होली... Read more
रंगों की महफिल , डूबे डूबे से हैं ! सब अपने लगते , रंग अजूबे से हैं ! रंग उड़ाया ऐसा - मची धमाल है... Read more
फागुन
विषय-फागुन तिथि-९-३-२०१७ सखी ! फागुन मास है आयो री। संग मधुर सरस बरसायो री। समा भयो बड़ा मनभावन री। चहु ओर है सरसों छाय रही।... Read more
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं
रंग गुलाल मोहे पिया लगावैं लपकि-झपकि मोहे अंग लगावैं मैं उन पर जाऊँ वारी भरि पिचकारी मोहे मारी तन भी भीगौ मन भी भीगौ अँखियन-अँखियन... Read more