.
Skip to content

मोहब्बत निर्मल गंगा जल ….

Ranjeet GHOSI

Ranjeet GHOSI

मुक्तक

October 20, 2017

मोहब्बत एक गंगा जल, सी निर्मल कहानी है!

जो पी गया कबीरा, मीरा भी दीवानी है !

नदिया लाख मिला ले समंदर अपने में, प्यास किसी एक की पर कहां बुझाता है!

मोहब्बत में मजिंल पाना, आसां नहीं होता !

मिलीं जिन्हे मंजिलें, लगानी पड़ी जवानी है!

मोहब्बत खेल नहीं होता,जिसकी जीत ही
मंजिल है !

एे तो हार के भी,दिलों को जीत लेती है!!₹

रंजीत घोसी

Author
Ranjeet GHOSI
PTI B. A. B.P.Ed. Gotegoan
Recommended Posts
मोहब्बत निर्मल गंगा जल ....
मोहब्बत एक गंगा जल, सी निर्मल कहानी है! जो पी गया कबीरा, मीरा भी दीवानी है ! नदिया लाख मिला ले समंदर अपने में, प्यास... Read more
रस्म-ए-मोहब्बत
रस्म-ऐ-मोहब्बत हम रस्में मोहब्बत को ऐसे अदा किए । दुनिया ने दिए जख्म हम तो मुस्कुरा दिए।। इजहारे मोहब्बत करें चाहा बहुत मगर। तेरे गुरुर... Read more
"सरेआम मोहब्बत हैं तुझसे मुझे " (मुक्तक) बाखुदा मोहब्बत हैं तुझसे मुझे। बेपनाँ मोहब्बत हैं तुझसे मुझे। मोहब्बत को मेरी यूँ मापा न कर। बेइंतहा... Read more
माँ गंगा
पतित पावनी निर्मल गंगा । मोक्ष दायनी उज्वल गंगा । उतर स्वर्ग आई धरा पर , शिव शीश धारणी माँ गंगा । जैसी तब बहती... Read more