.
Skip to content

मोहब्बत क्या

विनय झंझटी

विनय झंझटी

शेर

January 19, 2017

किसी की आदत बन जाओ !
मोहब्बत खुद-ब-खुद बन जाओगे !!

Author
विनय झंझटी
ये जो तुम्हारी याद है ना... बस यही एक मेरी जायदाद है...!
Recommended Posts
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
मोहब्बत का सरे आम इज़हार न करो बेदर्द ज़माना है खुद का मज़ाक न करो पंकज त्रिवेदी
कहने को
नफरत है दहश्त है इस दुनिया में मोहब्बत तो है बस कहने को संदीप शर्मा "कुमार"
शेर
Pankaj Trivedi शेर Jan 20, 2017
मन की गलियाँ विरानी सी क्यूं हो गई है, मेरी मोहब्बत में क्या कमी तुमने पाई है? - पंकज त्रिवेदी
ओह्ह ये मोहःब्बत
कबूले ऐ जुर्म करते हैं हम तेरे कदमो में गिर कर । सजाये मौत मंजूर है मगर अब मोहब्बत नही करनी ।।