मोरे घनश्याम

मोरे घनश्याम

दरश दिखा के
प्यास जगा के
कुछ क्षण मोरे
संग बीता के शाम !

मुझ विरहन को
तू छोड़ अकेला
कौन देस गया
हे मोरे घनशाम !

मैं पल-पल जलूँ
ना जिऊँ ना मरूँ
ढड़े नैनों से नीर
मन को ना आराम !

कजरा संग अँखियां
बिंदिया संग लिलरा
वेणी संग मोर जूड़ा
निक लागे नाहिं राम !

तुझ संग सब निक लागे
सब हौं अब तो अभागे
काहे का करूँ मो सिंगार
कौन नाहिं इनके दाम !

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
06. 02. 2017

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share