.
Skip to content

मोबाइल, मोहब्बत (कुण्डलियां)

ramprasad lilhare

ramprasad lilhare

कुण्डलिया

September 18, 2017

“मोबाइल ”
मोबाइल का देख लो, कैसा चढ़ा बुखार।
बच्चों पर भी हैं चढ़ा, मोबाइली खुमार।
मोबाइली खुमार, कोई भी बच न पाया।
हुये सभी बीमार, जो सम्पर्क में आया।
लम्बी लगी कतार, सारे मारते स्टाइल।
हर घर में मेरे यार, हैं दो चार मोबाइल।

“मोहब्बत ”
मोहब्बत के नाम पर, जख्म दे रहे लोग।
प्रेम पूजा नहीं रहा, बना प्यार अब भोग।
बना प्यार अब भोग, सभी धोखा हैं देते।
कैसा आया ट्रेंड, स्वार्थ सिद्ध कर लेते।
कहे राम”कविराय, प्यार सच बने इबादत।
करो न एेसा प्यार, हो बदनाम मोहब्बत।

स्वरचित
रामप्रसाद लिल्हारे “मीना “

Author
ramprasad lilhare
रामप्रसाद लिल्हारे "मीना "चिखला तहसील किरनापुर जिला बालाघाट म.प्र। हास्य व्यंग्य कवि पसंदीदा छंद -दोहा, कुण्डलियाँ सभी प्रकार की कविता, शेर, हास्य व्यंग्य लिखना पसंद वर्तमान में शास उच्च माध्यमिक विद्यालय माटे किरनापुर में शिक्षक के पद पर कार्यरत। शिक्षा... Read more
Recommended Posts
कविता:ये प्यार कैसा
स्वार्थ में बंधा है तो फिर प्यार कैसा। शर्त मे अंधा है तो फिर प्यार कैसा। हँसते हँसाते जीवन रंगीन बना दे जो, उसपर लुटा... Read more
मोबाइल जिन्दगी
उठते ही मोबाइल देखा। सोते भी मोबाइल देखा।। चलते-फिरते खाते-पीते; बार-बार मोबाइल देखा।। मोबाइल प्रोफ़ाइल देखा। फ़ोटो की स्टाइल देखा।। कौशल अब भगवान से बढ़कर... Read more
रस्म-ए-मोहब्बत
रस्म-ऐ-मोहब्बत हम रस्में मोहब्बत को ऐसे अदा किए । दुनिया ने दिए जख्म हम तो मुस्कुरा दिए।। इजहारे मोहब्बत करें चाहा बहुत मगर। तेरे गुरुर... Read more
मेरे सनम
DESH RAJ कविता Aug 12, 2017
मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया, तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I तेरे नैनो ने... Read more