.
Skip to content

मोती बनते ओस के , जब रोती है रात

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

कुण्डलिया

December 27, 2016

मोती बनते ओस के , जब रोती है रात
पी लेता सूरज उन्हें , समझ एक सौगात
समझ एक सौगात,रहे व्याकुल गर्मी से
संध्या में ही पेश, जरा आता नर्मी से
सुबह अर्चना रोज , धूप के दाने बोती
तभी बिखेरे रात ,ओस के देखो मोती

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
ओस
पिघला चाँद टपका बूंद बूंद बन के ओस करें श्रृंगार कमसिन कली का ओस के मोती कातिल सूर्य कोहरे ने बचाई ओस की जान नोचे... Read more
हुआ नहाना ओस में
रिश्ता नाजुक प्यार का, ज्यों प्रभात की ओस ! टिके न ज्यादा देर तक, व्यर्थ करे अफ़सोस!! हुआ नहाना ओस में ,.तेरा जब जब रात... Read more
हाइकु : ओस प्रसंग
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ~•~•~•~•~•~•~•~•~ हाइकु : ओस प्रसंग 01. भोर का बिम्ब पंखुड़ी बन गई ओस प्रसंग । ---0--- 02. कविता प्यारी हरी पत्तियों... Read more
सीप और मोती
Neelam Sharma गीत May 21, 2017
सीप और मोती मेरा दिल बंद सीप है और सनम तू उसमें है मोती तेरा मेरा साथ ऐसा है कि जैसे दीपक​ संग ज्योति। तू... Read more