मै जुगनू हूँ रात का राजा !

लंगड़ लूला लोच नही हूँ !

किसी के सर का बोझ नही हूँ !!

चम चम चमके जुगनू है हम !

कीड़े मकोड़े काकरोच नही हूँ !!

गद्दरो का घोस नही हूँ !

इसलिए जादा ठोस नही हूँ !!

मै जुगनू हूँ रात का राजा !

घास में फैली ओस नहीं हूँ !

हम जुगनू है छोटे अच्छे !

दिल के सीधे मन के सच्चे !

आप सभी को राह् दिखाऊ !

खुशी हूँ मैं कोई शोक नहीं हूँ !

लंगड़ लूला लोच नही हूँ !!!

Like Comment 0
Views 129

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing