मैं .......

शब्द लुटाता शब्द सजाता मैं ।

लिखता बस लिखता जाता मैं ।

खुद से खुद खुश हो जाता मैं ।

खुद को खुद से झुठलाता मैं ।

सच में कभी झूंठ सजाता मैं ।

झूंठ कभी सच से बहलाता मैं ।

…..विवेक….

Like Comment 0
Views 15

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share