.
Skip to content

मैं

Kokila Agarwal

Kokila Agarwal

कविता

January 23, 2017

हर लम्हा
पुकारती हूं
मैं..
हर लम्हा
हारती हूं
मैं..
समझ न आये
मायने अब तक
बस लम्हे
संवारती हूं
मैं…
इक तमाशा
बन गई
ज़िंदगी
बस जीकर
गुज़ारती हूं
मैं…..
न कोई राह
न कोई मंज़िल
न कोई आवाज़
न परवाज़
अजब सा
ये मंज़र
है आंखो में
जाने क्या
तलाशती हूं
मैं…….

Author
Kokila Agarwal
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing
Recommended Posts
*  मैं महक हूं  *
मैं महक हूं बस तूं मुझे महसूस कर दूर हूं पर पास दिल से महसूस कर एक दिन ये ख़्वाब ही हक़ीक़त बने जाफ़रानी खुशबू... Read more
सरल हूं सरल लिखता हूँ
सरल हूं सरल दिखता हूं सरल हूं सरल लिखता हूं रोज देखता हूं अतरंगी दुनिया कभी हंसता कभी रोता हूं अपने जीवन के अनुभवों को... Read more
अपनी किस्मत....
आज मैं अपनी किस्मत को, फिर आजमाने चल पड़ा हूं !! देखना है क्या मिलता है, नसीब को मेरे ! आज पुरानी राहों पर, फिर... Read more
हूं मैं कहां...
मैं रहती हूं, पर हूं कहाँ। मैं सहती हूँ, पर हूं कहाँ। मैं डरती हूं, पर हूं कहाँ। मैं मरती हूं, पर हूं कहाँ। मैं... Read more