मैं होली कैसे खेलूँ

शीर्षक :- मैं होली कैसे खेलूँ
रचनाकार:- डी के निवातिया

!

विषय : – होली

कोई रंग न मोहे भाये, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

रंग-रंग के यहां फूल खिले
देख-देख मोरा जिया जले
कैसे आये उसको सुकून
जिसके बालम घर न आएं !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

सखी सहेली मिल फाग गावे
हँस हँस कर सब मोहे चिढ़ावें
मै विरहन घुट घुट कर जिऊँ
कैसे करूँ इस दिल का उपाये !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाएं
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!

अमवा पे बैरन कोयल गाती
कुहू-कुहू कर वो मुझे चिढ़ाती
सुन-सुन कर उसकी बोली को
मेरे कान के पर्दे फट-फट जाये !!

कोई रंग न मोहे भायें, मोरा दिल चैन न पाए
मै होली कैसे खेलूँ, मोरे साजन घर न आएं !!
!
!
!
डी के निवातिया

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share