.
Skip to content

*****मैं हूँ मात्रिक छंद*** दोहा*****

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

February 15, 2017

**काव्य का है छंद कहलाता ,
मात्राओं पर आधारित गुण दर्शाता |
मात्रिक छंद की आभा लिए ,
दो पंक्तियों में लिखा है जाता |

**दो चरण हर पंक्ति में आते ,
चार चरण जब पूरे हो जाते |
मात्रिक छंद तब पूर्ण कहलाता ,
तभी वह दोहा कहा है जाता |

**प्रत्येक चरण के बाद विराम है आता,
अल्प विराम का चिन्ह लग जाता |सार्थक वह तभी कहलाता,
जब दूसरे और चौथे चरण में तुकांत को पाता |

**तेरह मात्राओं से पूर्ण होकर
पहला और तीसरा चरण सार्थक हो जाता |
ग्यारह मात्राओं से बंध जाने पर दूसरा और चौथा चरण बनाता |

**चौबीस मात्राएँ पूरी होने पर दोहा अर्थ पूर्ण बन जाता |
मात्रिक छंद की शोभा है वह पाता
हर वाणी पर राज रजाता |

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
वर्ष 2016मे प्रकाशित ,कृतिकार बृजेश कुमार नायक की कृति
पुस्तक समीक्षा कृति का नाम -"क्रौंच सुऋषि आलोक समीक्षक-डा मोहन तिवारी " आनंद " प्रसिद्ध गीतकार बृजेश कुमार नायक का उत्कृष्ट खंडकाव्य "क्रौंच सुऋषि आलोक"... Read more
रमेशराज के 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में 7 बालगीत
क्या है 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' ? ----------------------------------------- मित्रो ! 'नव कुंडलिया 'राज' छंद' , छंद शास्त्र और साहित्य-क्षेत्र में मेरा एक अभिनव प्रयोग है... Read more
कुण्डलिया कैसे लिखें...
त्रिलोक सिंह ठकुरेला जी द्वारा -- "कुण्डलिया कैसे लिखें" कुंडलिया दोहा और रोला के संयोग से बना छंद है। इस छंद के ६ चरण होते हैं... Read more
??छप्पय छंद??
विधा- छप्पय छंद...प्रीतम कृत ************************ होठों पर मुस्कान,दिल में लेकर अरमान। मंजिल मिलेगी रे,चलोगे यार तुम ठान। हौंसलों की सदैव,होती है जीत सुनिए। जिसने चाहा... Read more