.
Skip to content

*****मैं हूँ एक ‘सुंदर’ सुमन****

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

February 17, 2017

**कलम चली है आज
जो अब लिखने को
किया अनुरोध किसी ने
कुछ लिखने को

**औरों के ऊपर नहीं
सिर्फ उस पर लिखने को
किया अनुरोध आज
किसी ने कुछ लिखने को

**सोच रही हूँ मैं
ऐसा कुछ क्या लिखूँ
याद रहे उसे दिया उपहार है
किसी अपने ने किसी अपने को

**भोली सूरत मन उसने कोमल है पाया
हँसी है उसकी जैसे चाँद निकल के आया

**सूरज जैसी छटा बिखेरती रहती है
चलती है जैसे मोरनी-सी कोई उपवन में
बातों में है जादू उसकी मृदुभाषी है वह, कलरव करती जैसे विहग की भाँति है वह

**कार्य में निपुण वह हर ,छंद लिख लेती है
हिंदी का तो नहीं पता ,अंग्रेजी पद घड़ लेती है

**नाम भी उसका सुंदर है मतलब भी ‘सुंदर’ है
अपने आप ही जानिए यह किसका विवरण है

**नीरू ने दिया उसका पूरा सारांश यहाँ है
पता स्वयं लगाओ रोज़ाना का मिलना है

**नहीं पता लग पाए तो कोई हर्ज नहीं है भाई
संदेश पहुँचाना था जिस तक उसको बात शीघ्र समझ है आई

**बहुत आभारी नीरू उसकी जिसने है साथ दिया
पूरा विवरण किया उस ‘सुंदर’सुमन का और एक पद निर्माण किया

**और कोई नहीं है वह मेरी कलम प्रवीण ,प्रखर
लिखती ही रहती है, नहीं थकती कभी मगर
लिखती ही रहती है, पर थकती नहीं मगर*******

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
आज मैं यादों को भुलाने चला हूँ! आज मैं जख्मों को मिटाने चला हूँ! दर्द छुप गये हैं खामोशी के तले, आज मैं महफिले-मयखाने चला... Read more
ग़ज़ल लिखने की एक छोटी सी कोशिश "इन्कलाब लिखता हूँ " ग़मज़दा होता हूँ जब कभी अपने जज़्बात लिखता हूँ मैं अन्दर से टूटने लगता... Read more
मैं क्यू लिखा करती हूँ
यादों के गुलदस्ते से निकल कर जब खुद से रूबरू होती हूँ अक्सर सोचा करती हूँ मैं क्यू लिखती हूँ हाँ मैं क्यू लिखती हूँ... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more